हिंदी सुविचार -1

  • आपको अपने भीतर से ही विकास करना होता है। कोई आपको सीखा नहीं सकता, कोई आपको आध्यात्मिक नहीं बना सकता। आपको सिखाने वाला और कोई नहीं, सिर्फ आपकी आत्मा ही है।- स्वामी विवेकानंद
  • जागें, उठें और तब तक न रुकें जब तक लक्ष्य तक न पहुंच जाएं|- स्वामी विवेकानंद
  • आत्मविश्वास और कड़ी मेहनत, असफलता नामक बिमारी को  मारने के लिए सबसे बढ़िया दवाई है। ये आपको एक सफल व्यक्ति बनाती है।- अब्दुल कलाम 
  • विपरीत परस्थितियों में कुछ लोग टूट जाते हैं, तो कुछ लोग लोग रिकॉर्ड तोड़ देते हैं|- शिव खेड़ा
  • देश का सबसे अच्छा दिमाग, क्लास रूम की आखरी बेंच पर भी मिल सकता है।- अब्दुल कलाम
  • आप अपना भविष्य नहीं बदल सकते पर आप अपनी आदते बदल सकते है और निश्चित रूप से आपकी आदते आपका भविष्य बदल देगी।- अब्दुल कलाम
  • जीतने वाले अलग चीजें नहीं करते, वो चीजों को  अलग तरह से करते हैं|- शिव खेड़ा
  • जिस व्यक्ति ने कभी गलती नहीं की, उसने कभी कुछ नया करने की कोशिश नहीं की|- अल्बर्ट आइंस्टीन
  • अगर आप सोचते हैं कि आप कर सकते हैं, तो आप कर सकते हैं| अगर आप सोचते हैं कि आप नहीं कर सकते हैं, तो आप नहीं कर सकते हैं| –शिव खेड़ा
  • हर एक चीज में खूबसूरती होती है, लेकिन हर कोई उसे नहीं देख पाता|- कन्फ्यूशियस
  • भगवान ने मनुष्य को अपने समान ही बनाया, पर दुर्भाग्य से इन्सान ने भगवान को अपने जैसा बना डाला |- महात्मा गाँधी
  • उस काम का चयन कीजिये जिसे आप पसंद करते हैं, फिर आपको पूरी ज़िन्दगी एक दिन भी काम नहीं करना पड़ेगा| – कन्फ्यूशियस
  • क्रोध एक प्रचंड अग्नि है, जो मनुष्य इस अग्नि को वश में कर सकता है, वह उसको बुझा देगा | जो मनुष्य अग्नि को वश में नहीं कर सकता, वह स्वंय अपने को जला लेगा | – महात्मा गाँधी
  • मनुष्य को अपनी ओर खीचने वाला यदि जगत में कोई असली चुम्बक है, तो वह केवल प्रेम है | – महात्मा गाँधी
  • मनुष्य के चेहरे पर जो भाव उसकी आँखों के द्वारा प्रकट होते हैं, वे उसके मन की अनुकृति होते हैं| उन्हें देवता भी नहीं छुपा सकते| – चाणक्य
  • अपने कार्य की शीघ्र सिद्धि चाहने वाला व्यक्ति नक्षत्रों की प्रतीक्षा नहीं करता| – चाणक्य
  • इंसान को कठिनाइयों की आवश्यकता होती है, क्योंकि सफलता का आनंद उठाने के लिए ये ज़रूरी हैं| –अब्दुल कलाम
  • भाग्य उनका साथ देता है जो हर संकट का सामना करके भी अपने लक्ष्य के प्रति दृढ रहते है । – चाणक्य
  • प्रेम की शक्ति, हिंसा की शक्ति से हजार गुनी प्रभावशाली और स्थायी होती है| – महात्मा गाँधी
  • कोई काम शुरू करने से पहले, स्वंय से तीन प्रश्न कीजिये – मैं ये क्यों कर रहा हूँ?इसके परिणाम क्या हो सकते हैं? और क्या मैं सफल होऊंगा? और जब गहराई से सोचने पर इन प्रश्नों के संतोषजनक उत्तर मिल जायें, तभी आगे बढें| – चाणक्य
  • संसार एक कड़वा वृक्ष है, इसके दो फल ही अमृत जैसे मीठे होते हैं – एक मधुर वाणी और दूसरी सज्जनों की संगति।- चाणक्य
  • मैं अकेली हूँ, लेकिन फिर भी मैं हूँ| मैं सबकुछ नहीं कर सकती, लेकिन मैं कुछ तो कर सकती हूँ|और सिर्फ इसलिए कि मैं सब कुछ नहीं कर सकती, मैं वो करने से पीछे नहीं हटूंगी जो मैं कर सकती हूँ| – हेलेन केलर
  • क्रोध को पाले रखना, गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकडे रहने के सामान है; इसमें आप स्वंय ही जलते हैं| – भगवानगौतम बुद्ध
  • कभी भी दुष्ट लोगों की सक्रियता समाज को बर्वाद नहीं करती, बल्कि हमेशा अच्छे लोगों की निष्क्रियता समाज को बर्बाद करती है| – शिव खेड़ा
  • ब्रह्माण्ड की सारी शक्तियां पहले से हमारी हैं| वो हमीं हैं जो अपनी आँखों पर हाँथ रख लेते हैं और फिर रोते हैं कि कितना अन्धकार है| – स्वामी विवेकानंद
  • मन की दुर्बलता से अधिक भयंकर और कोई पाप नहीं है। – स्वामी विवेकानंद
  • हिंदू संस्कृति आध्यात्मिकता की अमर आधारशिला पर आधारित है। – स्वामी विवेकानंद
  • भय ही पतन और पाप का निश्चित कारण है | – स्वामी विवेकानंद
  • किसी  दिन , जब  आपके  सामने कोई समस्या  ना  आये तो आप  सुनिश्चित  हो  सकते  हैं  कि  आप  गलत  मार्ग  पर  चल  रहे  हैं | – स्वामी विवेकानंद
  • किसी  चीज  से डरो मत, तुम  अद्भुत  काम  करोगे|यह  निर्भयता  ही  है  जो   क्षण  भर  में  परम  आनंद  लाती  है | – स्वामी विवेकानंद
  • जितना अध्ययन करते हैं, उतना ही हमें अपने अज्ञान का आभास होता जाता है | – स्वामी विवेकानंद
  • आदर्श, अनुशासन, मर्यादा, परिश्रम, ईमानदारी तथा उच्च मानवीय मूल्यों के बिना किसी का जीवन महान नहीं बन सकता है| – स्वामी विवेकानंद
  • हम भारतीय सभी धर्मों के प्रति केवल सहिष्णुता में ही विश्वास नहीं करते , वरन सभी धर्मों को सच्चा मानकर स्वीकार भी करते हैं | – स्वामी विवेकानंद
  • जिसके साथ श्रेष्ठ विचार रहते हैं, वह कभी भी अकेला नहीं रह सकता | – स्वामी विवेकानंद
  • हमारे व्यक्तित्व की उत्पत्ति हमारे विचारों में है| शब्द गौण हैं, विचार मुख्य हैं और  उनका असर दूर तक होता है|स्वामी विवेकानंद
  • जो लोग परमात्मा तक पहुंचना चाहते हैं उन्हें वाणी, मन, इन्द्रियों की पवित्रता और एक दयालु ह्रदय की आवश्यकता होती है| – चाणक्य
  • विश्वास वो शक्ति है जिससे उजड़ी हुई दुनिया में भी प्रकाश लाया जा सकता है| – हेलेन केलर
  • किसी डिग्री का ना होन दरअसल फायेदेमंद है, अगर आप इंजिनियर या डाक्टर हैं तब आप एक ही काम कर सकते हैं| पर यदि आपके पास कोई डिग्री नहीं है, तो आप कुछ भी कर सकते हैं| – शिव खेड़ा
  • अगर हम हल का हिस्सा नहीं हैं, तो हम समस्या हैं| – शिव खेड़ा
  • क्या हम यह नहीं जानते कि आत्म सम्मान, आत्म निर्भरता के साथ आता है?- अब्दुल कलाम 
  • जीतने वाले कहते है कि मुझे कुछ करना है और हारने वाले बोलते है कि कुछ होना चाहिए|- शिव खेड़ा
  • आप ईश्वर में तब तक विश्वास नहीं कर पाएंगे जब तक आप अपने आप में विश्वास नहीं करते|- स्वामी विवेकानंद
  • तैयारी करने में फेल होने का अर्थ है, फेल होने के लिए तैयारी करना|- बेंजामिन  फ्रैंकलिन
  • एक उत्कृष्ट बात जो शेर से सीखी जा सकती है, वो ये है कि व्यक्ति जो कुछ भी करना चाहता है उसे पूरे दिल और ज़ोरदार प्रयास के साथ करे|- चाणक्य
  •  हम जो कुछ भी हैं वो हमने आज तक क्या सोचा इस बात का परिणाम है| यदि कोई व्यक्ति बुरी सोच के साथ बोलता या काम करता है, तो उसे कष्ट ही मिलता है| यदि कोई व्यक्ति शुद्ध विचारों के साथ बोलता या काम करता है, तो उसकी परछाई की तरह ख़ुशी उसका साथ कभी नहीं छोडती|- भगवान गौतम बुद्ध
  • इससे पहले कि सपने सच हों आपको सपने देखने होंगे|- अब्दुल कलाम
  • जिसके पास धैर्य है वह जो चाहे वो पा सकता है।- बेंजामिन  फ्रैंकलिन
  • किसी भी धर्म में किसी धर्म को बनाए रखने और बढाने के लिए दूसरों को मारना नहीं बताया गया|- अब्दुल कलाम
  • सपने वो नहीं है जो आप नींद में देखते है, सपने वो है जो आपको नींद नहीं आने देते।- अब्दुल कलाम 
  • किसी  वृक्ष  को  काटने  के  लिए  आप  मुझे  छ:  घंटे  दीजिये  और  मैं  पहले  चार  घंटे  कुल्हाड़ी  की  धार तेज  करने  में  लगाऊंगा| – अब्राहम लिंकन
  • जब कभी कोई व्यक्ति कहता है कि वो ये “नहीं कर सकता है”, तो असल में वो दो चीजें कह रहा होता है| या तो मुझे पता नहीं है कि ये कैसे होगा या मैं इसे करना नहीं चाहता|- शिव खेड़ा

Author: kv1devlalilibrary

Kendirya Vidyalaya No.1, Devlali Near Devi Mandir, Rest Camp Road, Devlali Nashik, Maharashtra-422 401 E-mail: kv1devlibrary@gmail.com Web site: www.kv1devlalilibrary.wordpress.com

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.