सिविल सेवा परीक्षा (UPSC Exam)

सिविल सेवा परीक्षा (UPSC) का नाम सुनते ही लोगों के मन में एक प्रतिष्ठित एवं गरिमा पूर्ण परीक्षा का चित्र मस्तिष्क में उभरने लगता है ! हर युवा का यह सपना होता है कि वह एक आई.ए.एस,आई. पी. एस बनकर अपने देश कि सेवा करे ।  वास्तव में सिविल सेवा परीक्षा देश कि सबसे कठिन एवं लोकप्रिय परीक्षाओ में से एक है ! प्रत्येक वर्ष संघ लोक सेवा आयोग ( UPSC) द्वारा इस परीक्षा का आयोजन तीन (प्रारंभिक परीक्षा,मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार ) चरणों  में  किया जाता है ! हर वर्ष लगभग लाखों परीक्षार्थी इस परीक्षा में बैठते हैं परन्तु उनमें से कुछ भाग्यशाली को ही लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय अकादमी मसूरी  एवं सरदार पटेल पुलिस अकादमी हैदराबाद जैसे प्रतिष्ठित जगहों  पर प्रवेश का मौका मिल पाता है ! इस महत्वपूर्ण परीक्षा में सफलता के पश्चात सफल परीक्षार्थियों को उनकी प्राथमिकता  एवं वरीयता के आधार पर IAS,IPS,IFS,IRS तथा अन्य केंद्रीय सेवाओं के लिये चुना जाता है !
सिविल सेवा परीक्षा की प्रकृति :-   एक सिविल सेवक बनने के लिये परीक्षार्थियों को तीन महत्वपूर्ण पायदानों से गुजरना पड़ता है जिसे क्रमशः प्रारंभिक परीक्षा,मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार के नाम से जाना जाता है !
प्रारंभिक परीक्षा :-   प्रारंभिक परीक्षा की प्रकृति वस्तुनिष्ठ होती है, जिसमें दो पत्र होते है-
प्रथम पत्र सामान्य अध्ययन का होता है, जिसमे इतिहास, भूगोल, राजनीति विज्ञान,  सामान्य विज्ञान , सामयिक घटनाओं से संबंधित प्रश्न  पूछे जाते है । प्रत्येक प्रश्न के लिए दो अंक निर्धारित हैं तथा प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 1/3 अंक काटे जाते हैं ।
द्वितीय पत्रः CSAT का है । इस पत्र में कुल 80 प्रश्न पूछे जाते हैं तथा प्रत्येक प्रश्न 2.5 अंको का होता है इस प्रकार से CSAT का पेपर कुल 200 अंको का होता है ! इस पत्र में प्रत्येक गलत उतर के लिये 1/3 अंक काट लिये जाते हैं ।  इसके अलावा प्रारंभिक परीक्षा के अंको को मुख्य परीक्षा के मेरिट लिस्ट में नहीं जोड़ा जाता !
मुख्य परीक्षा :-   मुख्य परीक्षा सिविल सेवा परीक्षा का  द्वितीय एवं सबसे  महत्वपूर्ण चरण होता है 2013 में संघ लोक सेवा आयोग ने मुख्य परीक्षा के पाठ्यक्रम में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव किये हैं बदलाव के पश्चात अब मुख्य परीक्षा कुल 1750 अंको का होता है ! मुख्य परीक्षा के प्रारूप को निम्न टेबल के माध्यम से समझ सकते हैं :- 
पत्र    विषय                       अंक
1      निबंध                        250
2    सामान्य अध्ययन पत्र1    250
3    सामान्य अध्ययन पत्र 2   250
4     सामान्य अध्ययन पत्र 3  250
5    सामान्य अध्ययन पत्र 4   250
6     वैकल्पिक विषय पत्र 1  250
7     वैकल्पिक विषय पत्र 2  250
इसके अलावा 2 पत्र अनिवार्य विषय (हिंदी / अँग्रेजी ) के होते हैं जिनके अंक मुख्य परीक्षा के अंको के साथ नहीं जुड़ती ! दोनो पत्र 300 -300 अंको का होता है और इसमें केवल उतिर्ण होना अनिवार्य है ! 
इस प्रकार मुख्य परीक्षा में सफल परीक्षार्थियों को सक्षात्कार के लिये बुलाया जाता है !
साक्षात्कार :-  साक्षात्कार एक प्रकार का व्यक्तित्व परीक्षण है इसके अन्तर्गत आयोग आपके शैक्षणिक दस्तावेज, सामयिक विषयों कि ज्ञान एवं एक कुशल प्रशासक बनने कि योग्यता जाचंती है !
शैक्षणिक योग्यता :-  
सिविल सेवा परीक्षा में बैठने के लिये अभ्यर्थी को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (U.G.C) की धारा 1956, द्वारा मान्यता प्राप्त, किसी राज्य अथवा केंद्रीय विश्वविद्यालय, या ड्रीम्ड विश्वविद्यालय द्वारा स्नातक अथवा समकक्ष की डिग्री होनी चहिये  ।
वैसे छात्र जो स्नातक अथवा समकक्ष परीक्षा के परिणाम का इंतजार कर रहे हैं या अंतिम वर्ष में हैं, वो प्रारंभिक परीक्षा में बैठ सकते है । लेकिन मुख्य परीक्षा में शामिल होने के पूर्व उन्हें आवेदन पत्र के साथ न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता की डिग्री संलग्न करना आवश्यक है ।विशेष परिस्थिति में आयोग (U.P.S.C) वैसे छात्रों को भी परीक्षा में बैठने की अनुमति दे सकता है जो निर्धारित योग्यता धारण नहीं करते हैं लेकिन आयोग की नजर में उनकी डिग्री न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता के समकक्ष है ।पेशेवर और तकनीकी योग्यता वाले छात्र भी इस परीक्षा में शामिल हो सकते हैं ।
वैसे अभ्यर्थी जो M.B.B.S के Final में हैं या जिनकी इंटर्नशिप अभी पूरी नहीं हुई है वो भी सिविल सेवा मुख्य परीक्षा में शामिल हो सकते हैं । लेकिन साक्षात्कार के दौरान उन्हें पूरी डिग्री साक्षात्कार बोर्ड के समक्ष रखनी पड़ती है ।
आयु सीमा : सिविल सेवा परीक्षा में सम्मिलित होने के लिये अभ्यर्थियों को  नियून्तम 21 वर्ष होना चहिये जबकि एक सामान्य वर्ग का परीक्षार्थी अधिकतम 32 वर्ष कि आयु तक परीक्षा में सम्मिलित हो सकता है तथा वह 6 बार परीक्षा में बैठ सकता है वहीँ OBC,SC और ST को नियम के अनुसार आयुसीमा में छूट का प्रावधान है !
सिविल सेवा परीक्षा में सफलता के कुछ महत्वपूर्ण  टिप्स
सिविल सेवा परीक्षा एक कठिन परीक्षा और इसमें सफल होना इतना आसान नहीं हैं पर अगर आपके अंदर कुछ कर गुजरने कि ललक और आत्मविश्वास है तो आपको कोई ताकत इस परीक्षा में सफल होने से नहीं रोक सकता।
1. सम्पूर्ण पाठ्यक्रम पर हो अच्छी पकड़ :- 
 किसी भी परीक्षा में आप तभी सफल हो सकते हैं जब आप उस परीक्षा के पाठ्यक्रम से अच्छी तरह से परिचित हो ! आपको पाठ्यक्रम का ज्ञान न हो और आप परीक्षा कि तैयारी में जुट गये हैं तो निश्चित रुप से यह आपको असफलता कि ओर लें जायेगी! अतः अभ्यर्थीयों को सिविल सेवा परीक्षा कि तैयारी करने के निर्णय के तुरंत बाद सिविल सेवा परीक्षा के पाठ्यक्रम को सही से समझ लेना चहिये और पुरे पाठ्यक्रम को  याद कर लेंना चहिये ! इस प्रकार का निर्णय आपको तुरंत सफल बनाने में मददगार सिद्ध हो सकता है !
2. अच्छे पुस्तकों एवं अध्ययन सामग्री का चयन :- 
पाठ्यक्रम को अच्छी तरह से समझने के बाद अभ्यर्थीयों को उत्कृष्ट एवं प्रमाणिक अध्ययन सामग्री एवं पुस्तकों का चुनाव करना चहिये ! ताकि कम और अच्छे स्रोतों को बार बार पढ़ कर दोहराने में आसानी हो ! 
3. समूचे पाठ्यक्रम को जितनी बार हो सके दोहरायें  :-सिविल सेवा परीक्षा में सफलता के लिये आवश्यक है कि आप जितना अधिक हो सके पाठ्यक्रम को दोहरायें ! आप जितनी बार पाठ्यक्रम को दोहरायेंगे  परीक्षा में सफलता कि संभावना उतनी ही अधिक होगी !
4. नियमित कठोर परिश्रम करें 
किसी भी परीक्षा में सफल होने के आवश्यक है कि नियमित रुप से कठोर परिश्रम किया जाए और सिविल सेवा परीक्षा जैसे कठिन परीक्षा के लिये यह और प्रासंगिक लगता है ! अतः अगर आपको इस प्रतिष्ठित परीक्षा में सफल होना है तो नियमित रुप से कठोर परिश्रम करें ! नियमित कठोर परिश्रम से तात्पर्य है बिना किसी अवकाश के परिश्रम करना ऐसा नहीं होना चहिये कि 10 दिन आप कठोर परिश्रम कर रहें हैं और उसके बाद 5 दिन का अवकाश लें लेते हैं ! इस प्रकार कि आदत आपके सफलता में बाधक सिध्द हो सकती है ! अतः अगर इस परीक्षा में सफल होकर लाल बत्ती का सपना देख रहें हैं तो बिना रुके aspko 365 दिन अपने लक्ष्य प्रप्ति के लिये समर्पित रहना होगा !
5. अपने जीवन में अनुशासन लाइये और एक प्रशासक बनने का गुण विकसित कीजिये :-
सिविल सेवा परीक्षा में सफल होने के लिये केवल किताबी कीड़ा बनना ही ज़रूरी नहीं है आपको यह कभी नहीं भूलना चहिये कि केवल आपको मुख्य परीक्षा एवं प्रारंभिक परीक्षा ही नहीं उतिर्ण करना है आपको साक्षात्कार का भी सामना करना है ! अतः इसके लिये आपको अपने व्यक्तिगत जीवन में अनुशासन लाना बहुत ज़रूरी है आपको अपने व्यक्तित्व के विकास के लिये रोज़ एक सिविल सेवक कि तरह जीना होगा  तथा  उनके गुण अपने अंदर विकसित करना होगा !
Important Links for UPSC Exam:-
1. www.upsc.gov.in ( upsc website )   ( upsc की आधिकारिक वेबसाईट )
2. www.socialjustice.nic.in
(  सामान्साय अध्माययन  के समाजिक न्याय संबंधी टॉपिक के लिये महत्वपूर्ण )
3. www.indiaculture.nic.in
( समान्य अध्ययन के कला एवं संस्कृत खण्ड के लिये महत्वपूर्ण )
4. www.indiacode.nic.in ( constitution of India) ( सामान्य अध्ययन के संविधान संबंधी विषय के लिये महत्वपूर्ण )
5. www.prsindia.org ( Indian central act) ( सरकार द्वारा पारित महत्वपूर्ण बिल  को यहाँ से देख सकते हैं )
6. www.infrastrucure.gov.in ( PPP and Infrastructure ) ( सामान्य अध्ययन के आर्थिक विकास संबंधी मुद्दों के लिये महत्वपूर्ण )
7. www.mapofindia.com ( Indian Map)
( भूगोल – भारत का मानचित्र )
8. www.worldatlas.com ( world Atlas )
(भूगोल – विश्व मानचित्र )
9. www.arc.gov.in ( Arc Report )
( अर्थव्यवस्था संबंधी पॉलिसी एवं रिपोर्ट )
10. www.ipcc.ch ( Climate change)
( सामान्य अध्ययन पर्यावरण खण्ड हेतु महत्वपूर्ण )
11. www.thehindu.com ( The hindu new paper)
12. www.pib.nic.in ( Press Information Beauro) ( पत्र सुचना कार्यालय )
13. www.en.wikipedia.org ( wikipedia )
( wikipedia )
14. www.sciencemag.org ( science mag)
(सामान्य अध्ययन विज्ञान एवं प्रधौगिकि  खण्ड के लिये महत्वपूर्ण )
15. www.Downtoearth.org.in ( Down to Earth) ( सामान्य अध्ययन विज्ञान एवं प्रधौगिकि  खण्ड के लिये महत्वपूर्ण)
16. www.lawmin.nic.in ( law ministry )
( मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन द्वितीय पत्र के लिये उपयोगी )
17. www.egyankosh.ac.in ( IGNOU)
( इग्नू की  अध्ययन सामाग्री डाउनलोड करें )
18. www.gsnewsfile.blogspot.in ( NEWS FILE)
( सामाचार पत्रों के नियूज का संकलन )
19. www.mha.nic.in ( MHA)
( सामान्य अध्ययन द्वितीय पत्र के लिये वार्षिक रिपोर्ट )
20. www.mea.gov.in ( MEA)
( सामान्य अध्ययन – अंतराष्ट्रीय संबन्ध के लिए उपयोगी )
21. www.moef.nic.in
(वन एवं पर्यावरण संबंधी मुद्दों के लिये उपयोगी )
22. www.nasscom.org
( सामाजिक – आर्थिक नीति के लिये उपयोगी )
23. www.amnesty.org
( सामाजिक मुद्दों पर वार्षिक रिपोर्ट )
24. yojna.gov.in
( योजना मासिक पत्र डाउनलोड करने के लिये )

Author: kv1devlalilibrary

Kendirya Vidyalaya No.1, Devlali Near Devi Mandir, Rest Camp Road, Devlali Nashik, Maharashtra-422 401 E-mail: kv1devlibrary@gmail.com Web site: www.kv1devlalilibrary.wordpress.com

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.